Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
कर्नाटक में मंत्रिमंडल विस्तार: कांग्रेस के दावेदारों ने बढ़ाया दबाव

बेंगलुरू। कर्नाटक में एच डी कुमारस्वामी मंत्रिमंडल के अगले सप्ताह होने वाले बहु प्रतीक्षित विस्तार में जदएस के गठबंधन भागीदार कांग्रेस के दावेदारों ने मंत्री पद पाने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया है। ऐसी खबरें हैं कि राज्य कांग्रेस के नेता सूची को अंतिम रूप देने के लिए कुछ दिनों में दिल्ली जाएंगे। इस बीच मंत्री पद पाने की आकांक्षा रखने वाले कुछ लोगों ने दबाव की रणनीति बनानी शुरू कर दी है।

 भद्रावती से विधायक बी के संगमेश के समर्थकों ने बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया के आवास के समक्ष अपने नेता को मंत्री पद दिये जाने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। उन्होंने सिद्धारमैया एवं अन्य पार्टी नेताओं से संगमेश, जो कि शिवमोगा जिले से पार्टी के एकमात्र विधायक हैं, के नाम पर विचार करने को कहा। इस इलाके (शिवमोगा) को भाजपा के प्रदेश प्रमुख बी एस येदियुरप्पा के प्रभाव वाला क्षेत्र माना जाता है।
 पार्टी सूत्रों ने बताया कि कई ऐसे दावेदार हैं जो राज्य पार्टी नेतृत्व पर दबाव बना रहे हैं और अपनी मांग को लेकर उनके जल्द दिल्ली जाने की संभावना है। कांग्रेस एवं जदएस के बीच इस साल मई में हुए चुनाव पूर्व समझौते के बाद गठबंधन सरकार का यह दूसरा मंत्रिमंडल विस्तार है। इससे पूर्व छह जून को हुए विस्तार में कुमारस्वामी ने 25 मंत्रियों को शामिल किया था जिससे उनके मंत्रिमंडल की सदस्य संख्या बढ़कर 27 हो गयी थी।

 मंत्रिमंडल में अभी कांग्रेस के छह तथा जदएस के एक नेता मंत्री बन सकते हैं। दोनों सत्तारूढ़ दलों के बीच हुए समझौते के तहत कांग्रेस के 22 और जदएस के 12 मंत्री होंगे। मंत्रिमंडल के विस्तार का निर्णय ऐसी अटकलों के बीच आया है कि भाजपा कुछ असंतुष्ट कांग्रेस विधायकों को फुसला रही है। इसके अलावा पार्टी में कथित तौर पर गुटबाजी भी हो रही है।

Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy