Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
प्रधान मंत्री मोदी की इस बात से देश के डॉक्टर नाराज, जताई कड़ी आपत्ति

प्रधान मंत्री मोदी की इस बात से देश के डॉक्टर  नाराज, जताई कड़ी आपत्ति
मेडिकल कंसल्टेंट्स एसोसिएशन (मुबंई) और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उनके द्वारा लंदन में दिए बयान पर असंतोष व्यक्त किया है।बता दें पीएम मोदी ने लंदन में डॉक्टरों के भ्रष्टाचार पर कहा था कि वह विदेश जाकर कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेते हैं ताकि दवा कंपनियों को प्रमोट किया जा सके। इस बयान की वजह से डॉक्टरों में रोष है।इस मामले पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के डॉक्टर रवि वानखेड़कर का कहना है कि हम सभी पीएम मोदी द्वारा भारतीय डॉक्टरों पर की गई टिप्पणी से निराश हैं। उन्होंने ऐसे देश (यूके) में बयान दिया है जहां के 70 प्रतिशत मेडिकल सिस्टम को भारतीय चलाते हैं। दवाओं के मुद्दे जैसे मामले सरकार के हाथ में हैं हमारे हाथ में नहीं। हमारी पीएम से विनम्र विनती है कि वह अपनी टिप्पणी पर दोबारा विचार करें।इस मामले पर मेडिकल एसोसिएशन के ही दूसरे डॉक्टर विनोद शर्मा का कहना है कि विदेश में होने वाली कॉन्फ्रेंस दवा कंपनियों द्वारा प्रायोजित नहीं होती हैं।उन्होंने कहा- पीएम का बयान शर्मनाक है। कॉन्फ्रेंस में हमें नई दवाओं और प्रक्रियाओं के बारे में पता चलता है। साथ ही कॉन्फ्रेंस दवा कंपनियों द्वारा प्रायोजित नहीं होती हैं।मेडिकल कंसल्टेंट्स एसोसिएशन की डॉक्टर वीना पंडित का कहना है कि सरकार की विफलता का दोष डॉक्टरों पर नहीं मढ़ा जा सकता है। उन्होंने कहा- हां कुछ डॉक्टर ऐसे हैं लेकिन उसके लिए सभी डॉक्टरों की छवि को अनैतिक बनाना खासतौर से सार्वजनिक मंच पर और वह भी विदेश में बहुत गलत है।इससे पहले खुले खत में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के डॉक्टरों ने कहा था कि पीएम मोदी द्वारा यूके में दिया गया बयान अनुचित और अनावश्यक है। इसने बहुत से डॉक्टरों को अपमानित किया है।खत में यह भी लिखा था कि इन टिप्पणियों के कारण, उनके लिए जो सद्भावना और सम्मान है उसमें कमी आई है।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy