Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
हिन्दू महासभा नेताओं की गिरफ्तारी से आन्दोलन समिति का अनिश्चितकालीन धरना

हिन्दू महासभा नेताओं की गिरफ्तारी से आन्दोलन समिति का अनिश्चितकालीन धरना खण्डित हुआ
नई दिल्ली, हिन्दू महासभा मुक्ति आन्दोलन समिति का 30 जनवरी 2018 से हिन्दू महासभा भवन के समख आरंभ किया गया आन्दोलन उस समय खण्डित हो गया, जब थाना मन्दिर मार्ग पुलिस ने आन्दोलन समिति के संरक्षक स्वामी त्रिदण्डी जी महाराज, अध्यक्ष लक्ष्मण सिंह वर्मा ‘लच्छू भैया’, महामंत्री रविन्द्र कुमार द्विवेदी, जनसम्पर्क प्रभारी राजेन्द्र खट्टर, हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संजय मल्होत्रा, राष्ट्रीय मंत्री सूबे सिंह यादव, पश्चिम बंगाल अध्यक्ष राज नाथानी, तमिलनाडू अध्यक्ष रमेश बाबू, गुजरात अध्यक्ष धर्मेन्द्र सहित 50 से अधिक नेताओं और साधू-संतों को धारा 144 का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया।
देश का सबसे पुराना हिन्दू राजनीतिक दल ‘अखिल भारत हिन्दू महासभा’ को फर्जी अध्यक्षों से मुक्त करवाकर महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का संवैधानिक चुनाव करवाने, हिन्दू महासभा भवन सरकारी रिसीवर के सुपुर्द करने तथा भारतीय निर्वाचन आयोग से चुनाव पर्यवेक्षक घोषित करवाने आदि विभिन्न माँगों को लेकर हिन्दू महासभा मुक्ति आन्दोलन समिति के तत्वावधान और परम पवित्र भगवा ध्वज के नेतृत्व में देश भर से जुटे कार्यकर्ताओं और साधू-सन्तों ने 30 जनवरी को हिन्दू महासभा भवन के सामने प्रदर्शन किया और अनिश्चितकालीन धरना पर बैठ गये।
गिरफ्तारी से पहले आन्दोलन समिति के संरक्षक स्वामी त्रिदण्डी जी महाराज, अध्यक्ष लक्ष्मण सिंह वर्मा (लच्छू भैया), महामंत्री रविन्द्र द्विवेदी, जनसंपर्क प्रभारी राजेन्द्र खट्टर के मार्गदर्शन में दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, तमिलनाडू, पंजाब, पश्चिम बंगाल, गुजरात, जम्मू कश्मीर, राजस्थान, हरियाणा सहित एक दर्जन से अधिक राज्यों के लगभग 250 कार्यकर्ताओं ने गढ़वाल भवन से रैली निकालते हुए हिन्दू महासभा भवन पर पहुँचे और माँगों के समर्थन में जमकर नारेबाजी की।
प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए आन्दोलन समिति के संरक्षक स्वामी त्रिदण्डी जी महाराज ने कहा कि स्वामी चक्रपाणि और चन्द्र प्रकाश कौशिक ने हिन्दू महासभा भवन को आर्थिक भ्रष्टाचार और आपराधिक गतिविधियों का अड्डा बना लिया है। पुलिस और प्रशासन भी इनसे मिला हुआ है और उनसे प्राप्त आर्थिक लाभ के लोभ में उनका साथ दे रहा है। स्वामी त्रिदण्डी जी महाराज ने इस प्रकरण की सी.बी.आई. जाँच करवाकर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने की माँग की।
हिन्दू महासभा मुक्ति आन्दोलन समिति के महामंत्री रविन्द्र द्विवेदी ने अपने संबोधन में कहा कि 16 मार्च 2012 के अपने एक निर्णय में दिल्ली उच्च न्यायालय ने स्वामी चक्रपाणि और चन्द्र प्रकाश कौशिक में से किसी को भी हिन्दू महासभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष न मानते हुए भारतीय निर्वाचन आयोग को राष्ट्रीय अध्यक्ष के रिकार्ड से स्वामी चक्रपाणि का नाम हटाने का निर्देश दिया था। तब से भारतीय निर्वाचन आयोग का रिकार्ड रिक्त है। चक्रपाणि और कौशिक दोनों ने उच्च न्यायालय के निर्णय की अवमानना का अपराध करते हुए स्वघोषित राष्ट्रीय अध्यक्ष बनकर मीडिया और हिन्दू समाज को गुमराह करने में लिप्त हो गए।
रविन्द्र द्विवेदी ने कहा कि चक्रपाणि और कौशिक ने हिन्दू महासभा और उसकी सम्पत्ति को पुरखों से विरासत में मिली जागीर समझ कर उस पर कुण्डली मारकर बैठ गए हैं। हिन्दू महासभा कार्यकर्ता इसे किसी भी कीमत पर नहीं सहेंगे और दोनों की गिरफ्तारी तथा हिन्दू महासभा मुक्त होने तक उनका धरना प्रदर्शन जारी रहेगा।
आन्दोलन समिति के अध्यक्ष लक्ष्मण सिंह वर्मा ‘लच्छू भैया’ ने अपने संबोधन में स्वामी चक्रपाणि को फर्जी सन्त और कौशिक को भूमाफिया घोषित करते हुए कहा कि हिन्दू महासभा हिन्दुओं का है, किसी की व्यक्तिगत जागीर नहीं है। लच्छू भैया ने दावा किया कि उनके आन्दोलन को देश भर से भारी समर्थन मिल रहा है। उन्होंने कार्यकत्र्ताओं से आह्नान किया कि हम मर जायेंगे, लेकिन हिन्दू महासभा को आतातायियों से मुक्त कराये बिना यहाँ से वापस नहीं जायेंगे।
हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संजय मल्होत्रा, राष्ट्रीय प्रवक्ता व हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष नंबरदार लखन शर्मा, राष्ट्रीय मंत्री सूबे सिंह यादव, पश्चिम बंगाल के अध्यक्ष राज नाथानी, तमिलनाडू के अध्यक्ष रमेश बाबू, गुजरात के अध्यक्ष धर्मेन्द्र, राजस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष अवधेश माथुर, महेन्द्र सैनी संगठन मंत्री राजस्थान, वरिष्ठ नेता अमित शाह, हिन्दू स्वराज्य सेना के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष कृष्ण राय चैधरी, हिन्दू महिला सभा की प्रदेश अध्यक्षा रजनी सक्सेना, अखिल भारत गौरक्षा महासभा गुजरात प्रभारी नैनेश पटेल, नाथ संप्रदाय के सन्त शिरोमणि बाबा जोगी ओमनाथ, दीपक राजस्थान सहित विभिन्न प्रान्तों से आये प्रतिनिधियों और साधू-सन्तों ने अपने संबोधनों में एक स्वर में हिन्दू समाज के गौरव और अस्मिता की रक्षा के लिए स्वार्थी और छद्म हिन्दू नेताओं से हिन्दू महासभा को मुक्त कराने की हुँकार भरी।
आन्दोलन समिति के कुछ नेताओं द्वारा धरना-स्थल पर आत्मदाह की घोषणा करने से पुलिस ने पहले ही पूरे क्षेत्र में धारा-144 लगा दी और पुलिस बल का भारी बन्दोबस्त किया गया। धरना देने पहुँचे आन्दोलन समिति के नेताओं और साधू-संतों को धारा-144 का उल्लंघन करने पर थाना मन्दिर मार्ग पुलिस द्वारा गिरफ्तार करने के बाद देर शाम सभी नेताओं और साधू-सन्तों को रिहा कर दिया गया।
रिहाई के बाद आन्दोलन समिति के महामंत्री रविन्द्र कुमार द्विवेदी ने कहा कि अनिश्चितकालीन धरना खण्डित होने के बाद भी हम पुलिस, शासन-प्रशासन और हिन्दू महासभा भवन के कब्जाधारियों को यह कड़ा संदेश देने में सफल रहे कि निकट भविष्य में उन्हें भवन खाली करके राष्ट्रीय अध्यक्ष का संवैधानिक चुनाव करवाने पर विवश होना पड़ेगा। समिति अध्यक्ष लच्छू भैया ने रिहाई के बाद कहा कि यह उनके आंदोलन का आगाज था। यह आन्दोलन नई रणनीति और नये तेवरोें के साथ निरंतर जारी रहेगा, जिसकी रूपरेखा शीघ्र घोषित की जाएगी। आन्दोलन समिति के जनसम्पर्क प्रभारी राजेन्द्र खट्टर ने कहा कि आन्दोलन को सशक्त बनाने के लिए आन्दोलन समिति और हिन्दू महासभा के नेता देशव्यापी दौरा करेंगे और कार्यकर्ताओं से आन्दोलन समिति से जुड़ने का आह्नान किया जाएगा।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy