Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
राष्ट्रपति की रिश्तेदार को BJP ने नहीं दिया टिकट, निर्दलीय मैदान में

लखनऊ। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के सगे भतीजे की पत्नी ने कानपुर देहात जिले के झीझंक नगरपालिका अध्यक्ष पद के लिये भाजपा से टिकट मांगा था लेकिन पार्टी की स्थानीय इकाई से टिकट नहीं मिलने पर उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में पर्चा भरा है। भाजपा ने इस सीट पर एक अन्य महिला को टिकट दिया है। राष्ट्रपति के भतीजे पंकज की पत्नी दीपा कोविंद ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में पर्चा भर चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है।

राष्ट्रपति कोविंद के बड़े भाई प्यारे लाल कानपुर देहात के झींझक में रहते हैं। पंकज कोविंद उनके तीन पुत्रों में से एक हैं। इस बारे में भाजपा की कानपुर देहात जिला इकाई के अध्यक्ष राहुलदेव अग्निहोत्री ने कहा 'दीपा कोविंद ने झीझंक नगर पालिका अध्यक्ष के लिये चुनाव में टिकट मांगा था। लेकिन पार्टी ने स्थानीय स्तर पर सर्वेक्षण कराया तो उसमें एक अन्य महिला सरोजिनी देवी को जनता ज्यादा पसंद कर रही थी। इसलिये पार्टी ने सरोजिनी को टिकट दिया।’’
 
उन्होंने कहा 'हमारी पार्टी में परिवारवाद नहीं चलता है।’’ उन्होंने सवाल किया कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के परिवार से किसी ने आज तक चुनाव लड़ा है। उन्होंने कहा, ‘‘राष्ट्रपति कोविंद हमारे जिले की शान हैं, हम उनका सम्मान करते हैं। उनके राष्ट्रपति बनने से झीझंक का गौरव सम्मान बढ़ा है। हम दीपा कोविंद और उनके परिवार वालों को मना रहे हैं कि वह अपना नामांकन पत्र वापस ले लें। हम उन्हें भाजपा संगठन में सम्मानजनक पद देंगे।'
 
उधर, पंकज कोविंद ने कहा कि उन्होंने दीपा कोविंद के लिये झींझक नगरपालिका अध्यक्ष पद के लिये भाजपा से टिकट मांगा था। इसके लिये पार्टी की कानपुर देहात जिला इकाई के अध्यक्ष और क्षेत्रीय विधायक से भी मुलाकात की थी। ‘‘इस पर अग्निहोत्री ने कहा था कि इलाके से टिकट उसी को मिलेगा जो पढ़ा लिखा होगा और पार्टी का समर्पित कार्यकर्ता होगा।’’ उन्होंने कहा कि लेकिन जब टिकट की घोषणा हुई तो हम लोग हैरान हो गये क्योंकि भाजपा ने जिस महिला को टिकट दिया है वह पूर्व में बहुजन समाज पार्टी से जुड़ी थीं और उतनी पढ़ी लिखी नहीं हैं जितनी उनकी पत्नी दीपा कोविंद।
 
उन्होंने कहा कि दीपा ने एमए तक शिक्षा प्राप्त की है और उनका परिवार शुरू से भाजपा से जुड़ा रहा है। पंकज कोविंद ने कहा 'लेकिन भाजपा नेताओं ने हमारी एक नहीं सुनी और टिकट देने से इंकार कर दिया। तब हमने क्षेत्र की जनता से विचार विमर्श कर पत्नी दीपा कोविंद को चुनाव मैदान में उतारने का फैसला किया।’’ उन्होंने दावा किया कि झींझक नगर पालिका से उनकी पत्नी दीपा ही चुनाव जीतेंगी। गौरतलब है कि परौख गांव में राष्ट्रपति कोविंद का जन्म हुआ था लेकिन उनका परिवार झींझक में रहता है। यहां 29 नवंबर को नगर पालिका चुनाव के लिये मत डाले जायेंगे।

Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy