Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
मध्य प्रदेश,शाजापुर में SDM पर पथराव

 मध्य प्रदेश,शाजापुर  में SDM पर पथराव

मध्य प्रदेश के शाजापुर में अपेक्षाकृत शांत तरीके से चल रहा किसान आंदोलन हिंसक हो उठा। हिंसक हुए किसानों ने एसडीएम पर पथराव कर दिया। घायल एसडीएम को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस को बढ़ते बवाल के बीच आंसू गैस के गोले भी छोड़ने पड़े। जानकारी के मुताबिक शाजापुर कृषि मंडी में किसानों ने पथराव करते हुए एक ट्रक के अंदर आग लगा दी। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटान के लिए आंसू गैस के गोल छोड़े। थोड़ी ही देर में पूरा शहर बंद हो गया, घटना के बाद लोग दहशत में आ गए। शाजापुर की डीएम अलका श्रीवास्तव ने बताया कि किसानों ने मंडी में ट्रक को आग लगा दी। और मामले को संभालने पहुंची प्रशासनिक टीम पर पथराव कर दिया। किसानों के पथराव में एसडीएम घायल हो गए हैं। उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। प्रदर्शन के दौरान पत्थरबाजों ने पुलिस को जमकर दौड़ाया, जब उपद्रव बढ़ गया तो पुलिस ने सख्ती अपनाते हुए आंसू गैस के गोल छोड़े। गौरतलब है कि मंदसौर में प्रदर्शन के दौरान किसानों पर सुरक्षाबलों ने गोलियां चलाईं थी, जिसमें 6 किसानों की मौत हो गई थी। शाजापुर के किसान इसी मामले को लेकर भड़क गए।

किसान आंदोलन , अब तक के 10 बड़े अपडेट्स

1. मंदसौर से सुलगी किसान आंदोलन की आग की चपेट में मध्य प्रदेश के कई जिले आ गए हैं। शाजापुर में आज एसडीएम पर पथराव किया गया। घायल एसडीएम को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। वहीं हालात को देखते हुए शाजापुर में धारा 144 लगा दिया गया है।

2. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रशासन की इजाजत के बिना मंदसौर जाने की कोशिश की. राहुल गांधी राजस्थान-एमपी बॉर्डर होते हुए मंदसौर के लिए निकले भी, इन्होंने पुलिस को चकमा देने के लिए कार छोड़कर मोटरसाइकिल की सवारी की लेकिन नीमच में पुलिस ने इन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

3. राहुल गांधी ने जमानत लेने से इनकार कर दिया गया है। प्रशासल ने राहुल गांधी को फिलहाल नीमच में सरकारी गेस्ट हाउस में रखा गया है। राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के अलावा विपक्ष के भी कई नेता मौजूद थे।

4. राहुल के मंदसौर दौरे पर केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कसा तंज, कहा जहां फोटो खिंचाने का मौका होता है राहुल कभी वो मौका नहीं छोड़ते। वहीं दूसरी ओर मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्विटर पर किसानों के नाम संदेश दिया। शिवराज सिंह ने लिखा, ”मेरी सरकार किसानों की सरकार है जब तक सांस चलेगी, जनता और किसानों के लिए काम करता रहूंगा।”

5. मंदसौर में आंदोलन के दौरान किसानों की मौत के बाद राजनीति गर्म है। बीजेपी आरोप लगा रही है कि राहुल गांधी किसानों से मिलने के बहाने राजनीति चमकाने पहुंचे थे। बीजेपी का कहना है कि राहुल को वहां के हालात देखते हुए नहीं चाहिए था।

6. मंदसौर गोलीकांड के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार आरोप लगा रहे हैं कि किसान आंदोलन कांग्रेस का भड़काया हुआ है। वहीं भारतीय किसान संघ इस मामले में विपक्ष के साथ-साथ शिवराज सरकार को भी क्लीनचिट देने को राजी नहीं है।

7. मंदसौर गोलीकांड में मारे गए किसानों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। जांच कमेटी को इसे सौंप दिया गया है। शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृतकों के शरीर पर गोलियों के निशान मिले हैं. पैर, पेट, छाती के अलावा पीठ में भी गोली।

8. एमपी के गृह मंत्री भी अब मान गए हैं कि किसानों पर पुलिस की गोली चली है लेकिन जिम्मेदारी लेने के नाम पर अफसर अब भी ठीकरा सीआरपीएफ के माथे फोड़ते दिख रहे हैं।

9. मध्य प्रदेश में दो जून से किसान आंदोलन कर रहे हैं। मध्य प्रदेश के किसानों की मांग है कि उन्हें उनकी फसलों की सही कीमत मिले और कर्जमाफी हो। तीन जून को शिवराज सिंह चौहान ने किसानों से मिलकर मामला सुलझने का दावा किया था। जिसके बाद एक धड़े ने आंदोलन वापस भी ले लिया था। लेकिन बाकी किसान विरोध प्रदर्शन पर अड़े रहे।

10. 6 जून को प्रदर्शनकारी और सुरक्षाबल आमने-सामने आए. इसके बाद दोनों ओर से पथराव हुआ और फिर गोलियां चली, जिसमें पांच किसानों की मौत हो गई। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि गोलियां सीआरपीएफ की तरफ से चलीं वहीं राज्य सरकार कह रही है कि उसने गोली चलाने के आदेश ही नहीं दिए।




Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy