Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
पक्के इरादे वाले हैं योगी : उमा

पक्के इरादे वाले हैं योगी : उमा

लखनउ,: केन्द्रीय जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुनरोद्धार मंत्री उमा भारती ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ‘पक्के इरादों वाला’ बताते हुए आज कहा कि गंगा सहित विभिन्न नदियों की सफाई के अलावा बुंदेलखंड में सिंचाई सुविधाएं मुहैया कराने की दिशा में जल्द और तेजी से कार्य शुरू होगा।
योगी से मुलाकात के बाद उमा ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘गंगा के लिए हम 7000 करोड रूपये मई अंत तक देना चाहते हैं। सिंचाई के लिए 15 से 20 हजार करोड रूपये केन्द्र मदद करना चाहता है।’’ उन्होंने विश्वास जताया कि योगी के मुख्यमंत्री बनने के बाद अब उत्तर प्रदेश में तेजी से काम होगा। गंगा सफाई को लेकर योगी बतौर सांसद भी सदन में कई बार बोल चुके हैं।
उमा ने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार के विभाग मिलकर योगी के समक्ष गंगा सफाई के बारे में प्रस्तुतिकरण देंगे और उम्मीद है विलंब दूर होगा तथा इस दिशा में कार्य जल्द ही तेजी से शुरू किया जाएगा।
गोमती रिवर फ्रंट सहित गंगा एवं अन्य नदियों से जुडी परियोजनाओं में पूर्व की सपा सरकार के समय हुए घपलों की जांच कराने के बारे में उमा ने कहा कि गोमती के बारे में जल की स्वच्छता और परियोजना की लागत बडे मुद्दे हैं। ‘‘आगे काम होगा। हम सहयोग भी करेंगे लेकिन जब तक कमियां उजागर नहीं होंगी, काम आगे नहीं बढ सकेगा इसलिए सभी घोटालों की जांच होगी और काम भी आगे बढेगा।’’ केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि बुंदेलखंड में विकास परिषद का गठन जल्द किया जाएगा। वहां बुंदेलों और चंदेलों के समय से तालाब हैं। सूखे के निदान के लिए और पेयजल मुहैया कराने के लिए इन तालाबों को परस्पर संबद्ध करना होगा।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy