Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
हार का अंदाजा होने पर गड़े मुर्दे उखाड़ रहे मोदीः अखिलेश

मैनपुरी। सपा अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर उन्हें कठघरे में खड़ा करने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर पलटवार करते हुए आज कहा कि सरकार बनाने के लिये और साम्प्रदायिक ताकतों को हटाने के लिये सपा ने कांग्रेस से समझौता किया है और हार का अंदाजा हो जाने की वजह से मोदी गड़े मुर्दे उखाड़ रहे हैं। अखिलेश ने मैनपुरी में सपा प्रत्याशी के समर्थन में आयोजित रैली में कहा ‘‘मोदी जी ने कन्नौज में कहा कि हमने कांग्रेस से दोस्ती करके नासमझी की। हमने यह इसलिये किया ताकि हमारे लोगों के अंदर से सरकार बनाने को लेकर भ्रम और दुविधा निकल जाए। हमने सरकार बनाने के लिये और साम्प्रदायिक ताकतों को हटाने के लिये कांग्रेस से समझौता किया है।’’

 
उन्होंने कहा, ‘‘मोदी जी वर्ष 1984 की याद दिला रहे हैं। उन्हें इतनी दूर जाने की क्या जरूरत थी। अगर आपको हमें कांग्रेस के प्रति गुस्सा दिलाना था तो आप हमें फिरोजाबाद वाली बात याद दिला देते। वहां उपचुनाव में कांग्रेस के मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने हमें हराया था। ये इसलिये याद दिला रहे हैं क्योंकि इस बार उत्तर प्रदेश का चुनाव उन्होंने खो दिया है। अब उनके पास और कोई रास्ता नहीं है।’’
 
मुख्यमंत्री ने कहा ‘‘मोदी कहते हैं कि मुझे अनुभव नहीं है, इसीलिये मैंने कांग्रेस से गठबंधन किया। याद रखना साथियों, साइकिल तभी सीख पाते हो, जब एक बार गिर जाते हो। हम कम से कम साइकिल चलाना तो सीख ही गये हैं। हम साइकिल इतनी तेज चला सकते हैं कि ना हाथी ही आसपास आ सकता है और ना ही कमल वाले आ सकते हैं।’’ मालूम हो कि मोदी ने बुधवार को कन्नौज में अपनी जनसभा में कहा था कि मुलायम वर्ष 1984 में जब विधान परिषद में विपक्ष के नेता थे, तब उनके कड़े विरोध से तंग आकर कांग्रेस ने चार मार्च 1984 को मुलायम पर गोलियां चलवायी थीं मगर वह बच गये थे। अखिलेश कुर्सी के मोह में अपने बाप पर हमला कराने वाले लोगों की गोद में बैठकर राजनीति कर रहे हैं।




Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy