Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
देश वासियो सावधान भाजपा का चरित्र बन चुका है,समाज के टुकड़े करो और फिरंगियों जैसी चलाओ सरकार,चाहे जितना हो जाये देश का बंटाधार !

                   देश वासियो सावधान भाजपा का चरित्र बन चुका है

                  समाज के टुकड़े करो और फिरंगियों जैसी चलाओ सरकार               

                     समाज बांटो,अनुदान रूपी टुकड़े डालो सत्ता हासिल करो  

                                     और               

                         चाईना जैसे विदेशियों के साथ व्यवसाय के नाम पर अय्याशी करो कमीशनखाओ।

                                               चाहे जितना हो जाये देश का बंटाधार                        

 

भोपाल(पं.एस.के.भारद्वाज)-(देंखें भाजपा के कर्म को इतिहास के आईने में )देश में पहली बार बनी गैर कांग्रेसी सरकार के अगुआ जनसंघ के दफनकारी लोगों ने दलितों के वोटों अपने पक्ष में करने के लिए समाज को तोडऩे के लिए विघटनकारी विशेष आरक्षण के लिए मण्डल कमीशन का गठन किया था (विंदेश्वरी प्रसाद मण्डल)इसमें भाजपा के जन्मदाता  (तत्कालीन जनतापार्टी के महत्वपूर्ण भागीदार)के वरिष्ठ नेता भागीदार थे ।-पुन: सत्ता में आने के बाद स्व.श्रीमती इन्दिरा गॉधी तत्कालीन प्रधान मंत्री ने भी मण्डल कमीशन की रिपोर्ट को इस लिए लागू नही किया था कि यह देश के समाज में फूट डालने वाला कानून था। जबकि श्री अटल विहारी बाजपेयी और स्व.श्रीमती इन्दिरा गॉधी  देश की कानून व्यवस्था और परामर्श के लिए परस्पर अभिन्न सहयोगी होते थे।-स्व. विश्वनाथ प्रताप सिंह तत्कालीन प्रधान मंत्री ने दलित रूपी वोटरों को खुश करने और सत्ता पर निरन्तर बने रहने के लालच में मण्डल कमीशन की सिफारिशें लागू कर दी, तो फिर एक रणनीति के तहत दलितों को मिलने वाले लाभ के और मण्डल कमीशन की शिफारिशों के विरोध में पूरे देश में रथ यात्रा निकाली इतिहास साक्षी है,हजारों सवर्ण समाज के युवाओं को बर्बाद कर दिया, डिग्रियों की होली जलवादी,यहां तक कि अनेक युवाओं और छात्रों ने आत्मदाह भी कर लिया था।  रथयात्रा के सहारे सवर्णों को बहुत ऊल्लू बनाया भाजपा के रथयात्री ने और उनके सारथियों ने।-भाजपा ने ही सन् 2000 में 81 वां संविधान संशोधन करके एससी/एसटी के वैकलोक में आरक्षण का नियम कानून बनाया।-भाजपा ने ही सन् 2000 में पुन: 82वां संविधान में संशोधन करके एससी/एसटी के लोगों को परीक्षायों, नौकरियों और पदोन्नति में कट ऑफ माक्र्स की छूट का कानून बनाया था।-भाजपा ने ही वर्ष 2001 में 85वां संविधान संशोधन करके एससी/एसटी के लिए पदोन्नति में आरक्षण का कानून बना कर सवर्णों के लिए हमेशा के लिए रास्ता बंद करने का प्रयास किया है।-भाजपा ने ही 4 अगस्त 2009 में विधानसभा व लोकसभा सीटों पर एससी/एसटी आरक्षण के लिए कांग्रेस का साथ दिया/ भाजपा का ही प्रस्ताव था।-भाजपा ने ही 17 दिसम्बर 2012 को राज्यसभा में एससी/एसटी को पदोन्नति में आरक्षण लागू करने वाले बिल का समर्थन ही नहीं किया बल्कि अपनी नीति का हवाला देकर पूरे देश में खूब ढिंढोरा भी पीटा आपस में मिठाईयॉ भी बॉटी।-और अभी जल्दी में भाजपा सरकार सवर्ण समाज के लिए लोकसेवा आयोग में प्रवेश लेने वालों के लिए उनकी आयु सीमा 32 वर्ष से घटाकर 26 वर्ष करने का गुपचुप तरीके से प्रयासरत हैं।-इस पूरी सामाजिक विघटनकारी कानूनी व्यवस्था में न दलितों को समाज में सम्मान मिला,न जरूरतमन्दों को मदद मिली ,इसके विपरीत समाज में एक दूसरे से नफरत भरे अंदाज में व्यवहार करने लगे है। देश में कानून के नाम पर पुलिस का डण्डा हिटलर शाही और मजबूत हुआ है। परिणाम स्वरूप देश की अदालतों में लगभग 4 करोड़ मुकद्दमें न्याय के इन्तजार में लाईन में पड़े है,जिनमें 80 प्रतिशत अर्थात जो करीब 3 करोड़ 20 लाख की संख्या में होते है। जिनमें सरकार स्वयं फरियादी है। जिसक ी पूरी आर्थिक व्यवस्था जनता के टैक्स से होती है। जिसमें करदाता समाज का हर वर्ग समाहित है।  इस व्यवस्था को जिन्दा रखने के लिए सरकार और पुलिस मिलकर अथक प्रयास में दिन-रात लगे रहते है। ताकि समाज में विवाद बना रहे अपराध होते रहे दलालों और बिचौलियों के घर के चूल्हे जलते रहे,साथ ही भविष्य में आने वाली भ्रष्टों की टोली की संताने भी इसी खेती में फसल काटती रहें,और हॉ भाजपा को इसमें जबरजस्त लाभ हुआ है भाजपा शून्य संगठन  से सत्ता के शिखर पर जरूर पहुॅच गई है । इसी का परिणाम है कि हम अपने समाज के लोगो से वैसा ही व्यवहार कर रहे है जैसा भाजपा ने चाहा और फिरंगियों ने भी यही फार्मूला गुलामों पर राज करने  लिए अपनाया था। 

    हिन्दुत्व विरोधी,धर्म शत्रु, फिरंगियों जैसी चाल-चलन और हुंकार, 

           दलालपंथी,स्वयंभू प्रचार में माहिर,भ्रष्ट भाजपा सरकार। 

     ना मानो तो देख लो,कायम है मदुभाषी गुण्डाशाही शिव सरकार,

        लोकलाज रही नहीं,गुण्डई,कर्ज,बेरोजगारी अपराधी माफिआ ही बने है सरदार।

      सत्ता,संगठन पर हावी है,कानून की बलात्कारी प्रचण्ड दमनकारी सरकार,

         निरपराध,दंश झेल रहे,माई के लाल शिव कहें हम है मामा कानून के दोमुंहे अवतार

    फूट डाली राज किया,धर्म,कर्म,जाति और पद प्रतिष्ठा को बनाया धन्धा,

        सत्ताधारी मदमस्त है,मोहपाशी बन संगठन हो गया कान्धारी सा अन्धा ।।                   


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy