Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
म.प्र.विधानसभा में फर्राश से सूचना अधिकारी बने मुकेश मिश्रा की नियुक्ति अवैध!

म.प्र.विधानसभा में फर्राश से सूचना अधिकारी बने मुकेश मिश्रा की नियुक्ति अवैध! 

मध्यप्रदेश विधानसभा में अवैध नियुक्ति से फर्राश से सूचना अधिकारी बने मुकेश मिश्रा की मुश्किले बढ़ती ही जा रही हैं। सूत्रों के मुताबिक म.प्र. विधानसभा  के साथ-साथ अन्य जांच एजेंसियां भी सक्रीय हो गई है। इस मामले को गत दिनों राजधानी से प्रकाशित एक समाचार पत्रिका ने उठाया था। यहाँ उल्लेखीय है की मध्यप्रदेश विधानसभा में अनेकों व्यक्ति अवैधानिक नियुक्तियों के जरिए भर्ती होकर नौकरी कर रहे हैं। विधानसभा सूत्रों का कहना है कि मुकेश मिश्रा की नियुक्ति पूर्णतः अवैध है। इस भर्ती के लिए न तो विज्ञापन जारी हुआ न हीं भर्ती के समय कोई पद ही रिक्त था।  मुकेश मिश्रा की भर्ती के समय किसी भी प्रकार की भर्ती प्रक्रिया का पालन नही किया गया है। यह भर्ती बैक डोर एंट्री की है। प्रमोशन के मामले में  चुप्पी !सचिवालय के प्रमोशनों पर भी उंगली उठना चालू हो गई है। सूत्रों का कहना है की अभी दो सालों में जीतने भी प्रमोशन हुए हैं सभी जांच की जद में हैं। यह देश का एक ऐसा सचिवालय है जहां न तो नौकरी के लिए निर्धारित भर्ती प्रक्रिया का पालन किया जाता है और न ही प्रमोशन के लिए। यहाँ वस कृपा काम करती है। और जब कृपा आना बंद तो सचिवालय द्वारा ही  पुलिस में एफ़आईआर दर्ज  करा दी जाती है। मुकेश मिश्रा का मामला भी कुछ इसी तरह का है। 


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy