Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
मिड डे मील का खाना हराम,-उज्जैन के मदरसे

मिड डे मील का खाना हराम,उज्जैन के मदरसे 

 

उज्जैन: मध्यप्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में इन दिनों एक नया विवाद सामने आ रहा है। उज्जैन में लगभग 56 से अधिक मदरसों ने मिड डे मील योजना के तहत मिलने वाले खाने को लेने से मना कर दिया है।
  इस घटना के पीछे तर्क दिया जा रहा है की मिड डे मील का ये खाना पहले हिन्दू भगवानों को भोग लगाया जाता है। उसके बाद ही ये खाना बच्चों के लिए भेजा जाता है जिस पर कई मदरसों को आपत्ति है। उज्जैन के एक मदरसे के अनुसार इस्लाम में चूँकि मूर्ति पूजा हराम है इसलिए मूर्तियों को को भोग लगाए हुए खाने को खाना भी हराम है। इस घटना के बाद प्रशासन के माथे पर भी चिंता की लकीरें खिंच गयी है। प्रशासन के अनुसार समस्या हिन्दुओ के द्वारा खाने बनाने पर नहीं है बल्कि हिन्दू देवी देवताओं को चढाने के बाद भोजन के आने पर कई मुस्लिम विद्वानो को आपत्ति है। 
  उनका कहना है की खाना बनाने के बाद हिन्दू देवी देवताओ को भोग लगाया जाता है और इस खाने को न तो वे खायेंगे और न अपने स्टूडेंट्स को खाने देंगे। फिलहाल इस मामले के बाद बच्चो के माता पिता अवश्य संकट में आ गए है। मदरसे में पढने वाले बच्चों के माता पिता के अनुसार मदरसों और मिड डे मील भोजन बांटने वाली संस्था की बीच की लड़ाई से उनके बच्चे भूखे मर रहे है इसलिए अब उन्हें समझ नहीं आ रहा है की वे कैसे इस समस्या से निजात पाए। गौरतलब है की मध्य प्रदेश में मिड डे मील भोजन देने का काम बीआरके फ़ूडस एंड माँ पपार्वती फूड्स का है जो पिछले कुछ महीनो से राज्य में मिड डे मील योजना के अंतर्गत भोजन बनाती है और बांटती है। वही इससे पहले इस्कोन राज्य में भोजन बनाने का काम करती थी जिसे मदरसों ने लेने से मना कर दिया था वही नयी कंपनी से भी मदरसों ने भोजन लेने से मना कर दिया है।


00:40:05


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy