Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
फ्राड थीं मदर टेरेसा, भ्रष्ट लोगों से पैसे लेती थीं व ईसाईयत का एजेंडा चलाती थीं : तसलीमा नसरीन

दिल्ली : कट्टरपंथ और नारी विमर्शों पर लिखने तथा अपनी बेबाक राय रखने के लिए मशहूर प्रसिद्ध लेखिका तसलीमा नसरीन ने इस बार ईसाई नन और मिशनरी कार्यकारी मदर टेरेसा पर कई गंभीर सवाल खड़े किए हैं। दरअसल हाल ही में वेटिकन ने घोषणा की थी कि वह ‘कथित रूप से’ सेवा कार्य चलाने वालीं और गरीबों की भलाई के लिए काम करने वाली मदर टेरेसा को संत की उपाधि देगा। वेटिकन के इस फैसले पर कई लोगों ने सवाल खड़े किये हैं, क्योंकि मदर टेरेसा पर आरोप था कि वो भी मिशनरियों के भान्ति सेवा की आड़ में धर्म परिवर्तन का गंदा खेल चलाती थीं और यही उनका वास्तविक लक्ष्य था। ऐसे तथ्यों की भी कमी नहीं जो यह साबित करते हैं कि मदर टेरेसा का एजेंडा सेवा नहीं बल्कि ईसाईयत का प्रचार था। मदर टेरेसा पर ऐसे भी आरोप लगे थे कि वह दर्द से कराहते लोगों की सेवा करने के बजाय उन क्षणों को एंजॉय किया करती थीं और पीड़ित के दर्द से कराहने को उसे जीसस का किस करना बतातीं थीं। तसलीमा ने वेटिकन के टेरेसा को संत घोषित करने के फैसले पर अफ़सोस जताते हुए अपने ट्वीट में लिखा कि, “मदर टेरेसा को  संत बनाया जाएगा, ऐसी औरत जिसने भ्रष्ट लोगों से पैसा ले लिया, जिसने गरीब व बीमार लोगों को बिना चिकित्सा उपलब्ध करवाए मरने के लिए छोड़ दिया वह अब संत हो जायेगी।”


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy