Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
झटका : छिन सकता है आगरा का जूता उद्योग

आगरा:  मुगल काल से भारत वर्ष में जूता निर्माण का केंद्र आगरा अब पड़ोसी राज्यों में व्यापार के अनुकूल परिस्थितियां बनने के कारण अपना महत्व खोता जा रहा है। कानूनी और पर्यावरण सम्बन्धी परेशानियों की वजह से अब यहां के जूता व्यवसायी दूसरे राज्यों में संभावनाएं तलाशने लगे हैं। वहीं दूसरे राज्य भी इन व्यवसायियों को हरसंभव सहायता देने को तैयार हैं। 31 मई को एक प्रतिनिधिमंडल जयपुर और जोधपुर इस मामले में दौरा करने जा रहा है। 

जूता उद्योग में आगरा को अत्यधिक कुशल श्रमिकों, कारीगरों और कच्चे माल की सही आपूर्ति कराने वाला गढ़ कहा जाता है। देश के घरेलू जूता बिक्री का 65 प्रतिशत और विदेशी बिक्री का 28 प्रतिशत आगरा के जूता व्यवसाय के नाम है। हालांकि व्यवसायियों का मानना है कि जिस तरह से व्यापार चलना चाहिए वह नहीं चल रहा है। आए दिन बढ़ती जा रही कानूनी और पर्यावरण सम्बन्धी शिकायतों को लेकर दिन-ब-दिन यह व्यापार कम होता जा रहा है।

कई राज्य सरकारों ने किया संपर्क : डाबर आगरा फुटवियर मैन्युफैक्चर्स एंड एक्सपोर्टर्स चैम्बर्स के अध्यक्ष पूरन डाबर ने बताया कि सभी राज्य सरकारें रोजगार और वित्तीय ढांचे को सुदृढ़ करने के लिए नई संभावनाएं तलाश रही हैं। इसी कड़ी में राजस्थान, हरियाणा और मध्य प्रदेश की सरकारों ने अपने यहां मैगा लैदर क्लस्टर को स्थापित करने के लिए आगरा के व्यवसायियों से संपर्क किया है।

पड़ोसी राज्य मैगा लैदर क्लस्टर करना चाहते हैं स्थापित 
जहां आगरा के व्यवसायी परेशान हैं, वहीं पड़ोसी राज्य राजस्थान मध्य प्रदेश और हरियाणा अपने यहां मैगा लैदर क्लस्टर शुरू करना चाहते हैं। इसके लिए वे आगरा के व्यवसायियों को हर संभव सहायता देने को तैयार हैं। आगरा के जूता व्यवसायियों और निर्माताओं की एक टीम 31 मई को जयपुर और जोधपुर इन्हीं संभावनाओं को तलाशने जाएगी।

राजस्थान सरकार ने दी जमीन की पेशकश 
अध्यक्ष पूरन डाबर ने बताया कि पड़ोसी राज्य प्रोजैक्ट लगाने के लिए हर संभव सहायता देने को तैयार हैं। उन्होंने बताया कि राजस्थान सरकार ने तो जूता निर्माण इकाइयों को लगाने के लिए 500 एकड़ जमीन धोलपुर और 250-250 एकड़ जमीन भरतपुर और जयपुर के समीप देने का प्रस्ताव भी दिया है और आगरा के व्यवसायी इन प्रस्तावों को तवज्जो भी दे रहे हैं। राजस्थान के जोधपुर में फु टवियर डिजाइन और डिवैल्पमैंट इंस्टीच्यूट भी हैं जो जूता व्यवसायियों के लिए अच्छा सहयोगी साबित हो सकता है।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy