Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
भाजपा सरकार ने डेमेज कंट्रोल में झौंकी ताकत

भाजपा सरकार ने डेमेज कंट्रोल में झौंकी ताकत
 भोपाल। (पं.एस.के.भारद्वाज)व्यापम घोटाले से धूमिल हो रही भाजपा सरकार की छबि को बचाने हेतु डेमेज कंट्रोल में जुट गई है ,इसके लिए प्रदेश के तीन वरिष्ठ मंत्रियों को तैनात कर दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ ही भाजपा के वरिष्ठ नेताओं द्वारा जिस मीडिया को वेश्या कहा जाता रहा है, उसी मीडिया को खासकर चुनिंदा मीडिया नेशनल मीडिया को सरकार द्वारा मैनेज करने की भरपूर कोशिश हो रही है इसकी लाइजनिंग के लिए कुछ नौकरशाहों को भी मैदान में उतार दिया गया है। प्रदेश सरकार के तीन वरिष्ठ मंत्रियों में को यह महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है। व्यापम महाघोटाले की लपटों ने खासकर राज्य के राज्यपाल रामनरेश यादव एक मंत्राणी (जो नाम एस.टी.एफ की जांच में सामने आया।) जनसंपर्क विभाग का एक अधिकारी तथा कई अन्य प्रभावशाली मंत्रियों को लपेटे में ले लिया है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा और आर.एस.एस. की धूमिल होती साख को बचाने के लिए आला कमान के दवाब में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सीबीआई जांच कि मांग को मानने के लिए विवश होना पड़ा है। देश और दुनिया में व्यापम महाघोटाला गूंज रहा है। जीरो टारलेस की डींगे हांकने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निवास से निकलकर यह घोटाला देश की उच्चतम न्यायालय की चौखट तक पहुंच चुका है। इस घोटाले ने लगभग आधा सैकड़ा जिंदगियों को निगल लिया है। कई अधिकारी नेता, तथा ठेकेदार जेल के सीखचों में है। अभी तक की जांच में जो तथ्य उभरकर सामने आए हैं। उनसे यह पता चलता है कि सिर्फ छुटभैये लोगों को जांच के दायरे में लिया गया है। बड़े-बड़े मगरमच्छ अभी भी शान से उपदेश देते हुए मलाई खा रहे हैं। अब चूकि उच्चतम न्यायालय ने इस घोटाले की जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंप दिया है। जिससे यह उम्मीद बढ़ी है कि सीबीआई के हाथ मगरमच्छों के गले तक अवश्य पहुंचेगे। मगरमच्छों के माथे पर सीबीआई जांच की घोषणा होते ही चिंता की रेखाएं साफ दिखने लगी हैं।वहीं मीडिया मैनेज में लगे लोग मीडिया को खरीदने से लेकर साम,दाम,दण्ड भेद और पुलिस शासन का दुरुपयोग की नीति अपनाते हुए हाल में डेमेज कंट्रोल करने में जुट गए हैं। देखना यह है कि वे इस मकसद में कितना कामयाब हो पाते हैं। हर वार डेमेज कंट्रोल शिवराज चावुक यही अपनाते आते है।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy