Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
भ्रष्टाचार शब्द गायबः जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि सरकार भ्रष्टाचार से निपटने के लिए कदम उठा रही है और नयी सरकार के सत्ता में आने के बाद से ‘भ्रष्टाचार’ शब्द का दबी जुबान से भी जिक्र नहीं हुआ है। जेटली ने कहा कि भ्रष्टाचार से न केवल व्यापार करने की लागत बढ़ती है, बल्कि इससे देश का भरोसा कम होता है। उन्होंने यह माना कि भारत को भ्रष्टाचार की वजह से नुकसान हुआ है और कहा कि कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार इन मुद्दों से नए कानूनों के जरिये निपट रही है।

यहां विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की सालाना बैठक के दौरान अलग से सीआईआई-बीसीजी द्वारा नाश्ते के समय ‘‘भारत जिसका निर्माण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करना चाहते हैं’ विषय पर चर्चा के दौरान वित्त मंत्री ने ये विचार व्यक्त किए। जेटली से एक विदेशी निवेशक ने यूरोपीय कंपनी के सीईओ के एक सवाल के जवाब में ये बातें कहीं। निवेशक ने कहा कि एक यूरोपीय कंपनी के एक सीईओ ने उससे कहा था कि उसकी कंपनी ने भ्रष्टाचार की वजह से भारत में निवेश का इरादा टाल दिया। वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘मैं उस व्यक्ति को दोष नहीं देता। भ्रष्टाचार की वजह से हमें नुकसान हुआ है। इससे ने केवल कारोबार की लागत बढ़ती है, बल्कि देश की विश्वसनीयता भी प्रभावित होती है।’’

वित्त मंत्री जेटली ने कहा कि भारत में सिर्फ भ्रष्टाचार के आधार पर कोई परियोजना सफल नहीं हो सकती क्योंकि हमारी न्यायिक व्यवस्था काफी मजबूत है। हाल के समय में प्राकृतिक संसाधनों के आवंटन में भ्रष्टाचार के मामले सामने आए हैं, लेकिन नए कानूनों के जरिये इसका निपटान कर दिया गया है। जेटली ने कहा कि इसके अलावा कारोबार की अनुमति देने में भी भ्रष्टाचार होता था। इन प्रावधानों को भी तर्कसंगत बनाया गया है। उन्होंने कहा कि पिछले आठ माह में भारत में केवल एक शब्द है जो दबी जुबान से भी नहीं बोला गया है वह शब्द है भ्रष्टाचार।’’ मोदी की अगुवाई में राजग सरकार पिछले साल मई में सत्ता में आई थी। हाल के बरसों में कोयला ब्लाक व दूरसंचार स्पेक्ट्रम आवंटन में भ्रष्टाचार के मामले सामने आए थे।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy