Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
SBI से गौतम अदानी को 6200 करोड का लोन "वो अच्छे दिनों का वादा"!

 गौतम अदानी को ऑस्ट्रेलिया मे कोयला उत्खनन का प्रोजेक्ट मिला लेकिन अदानी के इस प्रोजेक्ट के लिये अदानी को पैसा चाहिये था. 
.
अदानी ने The Royal Bank of Scotland,Deutsch Bank (German Bank) और HSBC bank जैसी बँको से लोन मांगा सबने मना कर दिया. ऑस्ट्रेलिया के सब बैंकोने लोन को इंकार किया। अदानी Citigroup और JP Morgan Chase जैसी कम्पनियो के पास गया इन्होने भी पैसा लगाने से मना कर दिया. 
.
UNESCO इस प्रोजेक्ट के विरोध मे है क्योंकी पर्यावरण और World Heritage Site को इस प्रोजेक्ट कि वजह से धोखा है. वहां के लोगो का भी उसे विरोध है। इसलिए भी अदानी को इस प्रोजेक्ट मे पैसा देने को कोई तयार नही था. 
.
ऐसे वक्त मे गौतम अदानी के खास दोस्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सामने आये. नरेंद्र मोदी ने एक योजना शुरू कि प्रधानमंत्री जन-धन योजना. इस योजना से करोडो बँक खाते स्टेट बँक ऑफ इंडिया मे शुरू किये गये और इन खातो मे भारतीय लोगोने 5000-6000 करोड रुपये SBI मे जमा करा दिये. अब SBI से गौतम अदानी को 6200 करोड का लोन दिया जा रहा है. यह संभवत: किसी भी भारतीय बैंक द्वारा विदेश में किसी प्रोजेक्‍ट के लिए दिया जाने वाला सर्वाधिक लोन होगा. 
.
पहले ही अदानी पर 72,632 करोड़ का कर्जा है। उसका सालाना ब्याज 5,733 करोड़ है। यह इंटरेस्ट कव्हरेज रेशो 1.57 होता है। यह 1.5 से ज्यादा हो तो उसे वसूली में हानिकारक माना जाता है और वैसी हालात में बैंक कर्जा नहीं देती। ब्याज देना भी कंपनी को मुश्किल हो रहा है। तो भी sbi 6,200 करोड़ लोन दे रही है। अदानी के ऑस्ट्रेलियन कोल कंपनी पर भी 1 बिलियन डॉलर का कर्जा है, निगेटिव्ह शेअरहोल्डर फण्ड, जीरो आमदनी, हाय कैश बर्न से कंपनी मुसीबत में है।
.
इसके बावजूद एसबीआई ने उन्‍हें 6200 करोड़ रुपए का लोन देना मंजूर किया है. वह भी तब जब बैंक लगातार यह बता रहे हैं कि कंपनियों को पहलेही दिया गया कर्ज वसूलना मुश्किल हो रहा है .
.
लोगोकी मेहनत कि कमाई जिसे देश मे रोजगार उपलब्ध करने के लिये या फिर देश मे मुलभूत सुवाधाये उपलब्ध करने पर खर्च करना चाहिये था उसे एक उद्योगपती के फायदे के लिये दिया जा रहा है.नरेंद्र मोदी अपने उद्योगपती दोस्तो के साथ मिलकर इस देश को और इस देश कि जनता को लुट रहा है.
.
गूगल पर adani australia mines खोजने पर और भी भयानक तथ्य सामने आते है।
.
मोदी ने अमरीका जाकर दवाई की कंपनियों का भला किया, ऑस्ट्रेलिया जाकर अदानी का। यही था "वो अच्छे दिनों का वादा"!

   Romesh Chandra


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy