Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
पन्ना टाइगर रिजर्व के बाघों को आवारा कुत्तों से खतरा

पन्ना टाइगर रिजर्व के बाघों को अब शिकारियों के अलावा आवारा कुत्तों से जान का खतरा हो गया है। इनसे फैलने वाला ' डॉग वाइरस' उनके लिए नया खतरा बनकर सामने आया है। पन्ना टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक आर. श्रीनिवासमूर्ति ने बताया, 'हमने वेटनरी कॉलेज जबलपुर के साथ मिलकर वन्य प्राणियों में संक्रामक बीमारियों की निगरानी परियोजना शुरू कर दी है।'
उन्होंने हालांकि यह दावा किया है कि टाइगर रिजर्व में इस समय एक भी बाघ इस वाइरस से अभी पीड़ित नहीं है। पन्ना टाइगर रिजर्व में हाल ही शिकारियों का निशाना बनते बाघों पर ड्रोन विमान से नजर रखने की मुहिम चलाई गई थी, लेकिन अब कुत्तों से फैलने वाला वाइरस एक नया खतरा बन गया है।
रिजर्व के सूत्रों ने इस बारे में बताया है कि यह खतरनाक वाइरस टाइगर रिजर्व के आसपास की बसाहटों में पलने वाले आवारा और पालतू कुत्तों की त्वचा में होता है। उन्होंने कहा कि रिजर्व में चार माह पहले एक पागल कुत्ते ने एक बाघ को काट कर जख्मी कर दिया था। जख्मी बाघ को एक बाड़े में रखकर उसे रैबीज के टीके लगाए गए, जिससे वह संक्रमण से बच गया।

श्रीनिवासमूर्ति ने बताया कि कुत्तों से ही फैलने वाले वाइरस के नए पैदा हुए खतरे को देखते हुए बाघों के अस्तित्व को बचाना और भी चुनौतीपूर्ण हो गया है। भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान भी इस वाइरस को बाघों के लिए गंभीर खतरा मानता है।
बाघों के अस्तित्व पर आए इस संकट के बाद राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण भी हरकत में आ गया है और उसने हाल ही में राज्यों के टाइगर रिजर्व के आसपास के इलाकों में घूमने वाले पालतू या आवारा कुत्तों के टीकाकरण के निर्देश दिए हैं।
सूत्रों ने बताया कि वाइरस के संक्रमण से अब तक सिर्फ उत्तर प्रदेश में एक बाघ की मौत की पुष्टि हुई है, जबकि 2006 में दक्षिण अफ्रीका के जंगलों में कई शेर इस वाइरस का शिकार हुए हैं और उनकी मौत भी हुई है।
बाघ संरक्षण के लिए काम करने वाले निशांत व्यास का कहना है कि खतरनाक कैनाइन डिस्टेम्पर वाइरस बाघों के नर्वस सिस्टम पर असर डालता है और इसका संक्रमण होने पर बाघ बेहोश हो जाता है।
गौरतलब है कि पन्ना टाइगर रिजर्व के भीतर तीन गांव और पांच किलोमीटर की परिधि में लगभग 80 गांव है, जिनमें पलने वाले आवारा एवं पालतू कुत्तों का टीकाकरण तत्काल जरूरी है। इसमें देरी से बाघों को इस वाइरस से बचाना मुश्किल भी हो सकता है।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy