Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
दवाओं के ओवरडोज से हुई सुनंदा पुष्‍कर की मौत? पोस्‍टमार्टम पूरा

नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री शशि थरूर की पत्‍नी सुनंदा पुष्‍कर के शव का पोस्‍टमार्टम पूरा हो चुका है। उनका शव अब अस्पताल से घर ले जाया जा रहा है। सुनंदा का अंतिम संस्कार शाम 4 बजे किया जाएगा। हालांकि अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि उनकी मौत की क्या वजह रही।एम्‍स के निदेशक ने बताया कि पोस्‍टमार्टम के लिए तीन वरिष्‍ठ डॉक्‍टर्स का पैनल बनाया गया था, जिसकी अगुवाई डॉ. सुधीर गुप्‍ता कर रहे थे।

 

पोस्‍टमार्टम करीब 2 घंटे तक चला। पारदर्शिता के लिए पोस्‍टमार्टम की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी भी की गई। सुनंदा पुष्कर के भाई भी एम्स के पोस्टमार्टम हाउस में मौजूद थे। सुनंदा की मौत पर राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी शोक व्‍यक्‍त किया है। सुनंदा का अंतिम संस्‍कार शनिवार शाम 4 बजे किया जाएगा। सुनंदा की मौत की एक वजह दवाओं का ओवरडोज भी हो सकती है। हालांकि, असली कारण पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में ही सामने आएगा। शुक्रवार रात साढ़े आठ बजे उनका शव फाइव स्टार होटल लीला के कमरा नंबर 345 में मिला था। शनिवार को केंद्रीय मंत्री शशि थरूर को भी सीने में दर्द की शिकायत के बाद एम्‍स के आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा। थरूर के नजदीकियों ने बताया कि वे पत्‍नी की मौत से सदमे में हैं और रात भर रोते रहे थे। इसी वजह से उनकी तबीयत बिगड़ गई। एम्‍स प्रवक्‍ता अमित गुप्‍ता ने बताया कि अब उनकी स्थिति पहले से बेहतर है और उन्‍हें थोड़ी देर में अस्‍पताल से छुट्टी दे दी जाएगी। 

केरल इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल सांइस हॉस्पिटल (किम्‍स) के डॉक्‍टर विजयराघवन ने बताया कि सुनंदा को ऐसी कोई बीमारी नहीं थी, जिससे उनकी मौत अचानक हो जाए। सुनंदा अपना चेकअप कराने के लिए कुछ दिनों पहले किम्‍स आई थीं। किम्‍स के डॉक्‍टर्स के मुताबिक वे असहज महसूस कर रही थीं। डॉक्‍टर्स ने बताया कि वे अस्‍पताल में 12 जनवरी को भर्ती हुई थीं और 14 जनवरी को उन्‍हें डिस्‍चार्ज कर दिया गया था। डॉक्‍टर्स के मुताबिक वे डिस्‍चार्ज होने पर वे पूरी तरह स्‍वस्‍थ्‍य थीं।सुनंदा गुरुवार सुबह से ही होटल में थीं। शुक्रवार साढ़े तीन बजे उन्हें आखिरी बार होटल लॉबी में देखा गया था। सुनंदा गुरुवार से ही होटल में ठहरी हुई थीं। शशि थरूर भी होटल आए थे। थरूर शुक्रवार दिन में एआईसीसी की बैठक में हिस्सा लेने तालकटोरा स्टेडियम चले गए थे। यह भी खबर आ रही है कि सुनंदा और शशि थरूर के रिश्तों में 12 महीने पहले ही दरार पड़ चुकी थी। पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार और शशि थरूर के ट्वीट को लेकर सुनंदा परेशान थीं। बुधवार को वे ट्वीट सामने आए थे। बाद में शशि ने कहा था कि उनका अकाउंट हैक किया गया है। लेकिन सुनंदा ने शशि और मेहर के खिलाफ कई ट्वीट किए थे।

मेहर को आईएसआई एजेंट बताया था। फिर गुरुवार को शशि और सुनंदा ने संयुक्त बयान जारी कर कहा था कि उनके बीच कोई मतभेद नहीं है। हालांकि उस बयान के बाद भी सुनंदा ट्विटर पर ज्यादा सक्रिय नहीं थीं। मेहरने भी थरूर से किसी तरह के संबंधों से इनकार किया था। घटना को लेकर अलग बयान शशि के निजी सचिव के मुताबिकशशि के निजी सचिव अभिनव ने बताया कि दिल्ली वाले बंगले में पुताई का काम चल रहा था। इसलिए शशि और सुनंदागुरुवार को होटल में रह रहे थे। शशि दिनभर एआईसीसी की बैठक में थे। रात सवा आठ बजे वे होटल पहुंचे। शशि को कर्मचारी ने बताया कि वे बहुत देर से आराम कर रही हैं। शशि ने अंदर जाकर देखा तो सुनंदा की हालत ठीक नहीं लगी। फौरन डॉक्टर को बुलाया गया। जिसने उन्हें मृत घोषित कर दिया। 

 
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक होटल के सुइट में बहुत देर से हलचल नहीं हो रही थी। होटल के कर्मचारी ने शाम 7बजे दरवाजा खटखटाया तो अंदर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। दूसरी चाबी से सुइट का रूम खोला गया। सुनंदा अचेत थी। पुलिस बुलाई गई। पुलिस होटल के डॉक्टर के साथ मौके पर पहुंची तो उनकी मौत हो चुकी थी। उसके  बाद शशि थरूर को जानकारी दी गई।


सुनंदा के शव के साथ एंबुलेंस में बैठे केंद्रीय मंत्री शशि थरूर 


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy