Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
गुजरात : स्कूलों में बच्चों को अश्लील जोक्स !



अहमदाबाद (एडविन अमान) नरेंद्र मोदी की अगुआई में गुजरात में शिक्षण संस्थानों में जमकर अश्लीलता परोसी जा रही है। कुत्सिक और घ्रणित मानसिकता के शिक्षकों द्वारा बच्चों को द्विअर्थी मतलब वाले चुटकुले सुनाए जाकर उनकी मति भ्रष्ट करने का प्रयास किया जा रहा है। बच्चों के पालकों में इस बात को लेकर रोष और असंतोष गहरा गया है।

गुजरात में स्कूलों में बच्चों को अश्लील जोक्स पढ़ाए जा रहे हैं। यह चौंकाने वाला सच गुजरात के सरकारी प्राइमरी स्कूलों का है, जहां पिछले दो महीनों से बच्चे अश्लील जोक्स पढ़ रहे हैं। इन स्कूलों में पढ़ रहे अभिभावकों को इस बात की चिंता है कि इससे उनके बच्चों की मानसिकता पर बहुत बुरा असर पड़ेगा।

दरअसल, सर्व शिक्षा अभियान के तहत पांचवीं तक के बच्चों को बाल साहित्य के नाम पर एक पत्रिका बांटी गई है, जिसमें ऐसे चुटकुले हैं, जिन्हें बच्चे क्या बड़े भी पढ़कर शर्मा जाएं। बच्चों को बांटी गई इस पत्रिका को लेकर गुजरात में शिक्षा से जुड़े लोगों में गुस्सा है। लेकिन जब मामले ने तूल पकड़ा तो प्रकाशक ने पत्रिका को वापस लेने और इसके लिए जिम्मेदार शख्स के खिलाफ कार्रवाईकी बात कही है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के कुछ स्कूलों में इसके पहले देश का सबसे बड़ा मजाकर कर हिंदी वर्णमाला में च से चाकू और ब से बम पढ़ाया जा रहा था। इस पर आपत्ति जताई गई थी, जिसके बाद किताबों में बदलाव किया गया।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy