Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
गांधी-नेहरू परिवार के लिए वफादारी से मिला राज्यपाल पद: अजीज कुरैशी




उत्तराखंड के गवर्नर नियुक्त किए गए अजीज कुरैशी के एक बेबाक बयान से बवाल मच गया है। कुरैशी ने रविवार को कहा कि मेरे लंबे समय से कांग्रेस से जुड़े रहने और प्रतिबद्धता का ही नतीजा है कि मुझे गवर्नर का पद मिला। कुरैशी मध्य प्रदेश के मंत्री भी रह चुके हैं।

अजीज कुरैशी ने कहा, 'मैं हमेशा गांधी-नेहरू परिवार के प्रति वफादार रहा, मेरी नियुक्ति यह साबित करती है कि मुझे मेरी वफादारी का इनाम मिला। सिर्फ सोनिया गांधी के आशीर्वाद की वजह से मैं उत्तराखंड का गवर्नर बन सका।'

कुरैशी ने बताया, 'मैं कांग्रेस पार्टी से १९५१ में जुड़ा था और मैंने हर स्तर पर पार्टी के लिए काम किया। मैं उस पीढ़ी से था, जिसका मानना था कि गवर्नर बना देना एक किस्म का अपमान है क्योंकि इसका मतलब सक्रिय राजनीति से दूर कर देना था।' हालांकि, कुरैशी ने कहा कि हालात बदले हैं और गवर्नर बनना एक सम्मान की बात है। कुरैशी ने यह भी कहा कि मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम अर्जुन सिंह का पार्टी में कद मुझसे ऊंचा था लेकिन सिंह मुझसे पार्टी में जूनियर थे।

कुरैशी के बयान को विपक्षी दल बीजेपी ने सामंतवादी सोच बताया है। पार्टी प्रवक्ता प्रकाश जावडे़कर ने कहा, माना जाता है कि जब व्यक्ति संवैधानिक पद पर जाता है तो वह किसी भी पार्टी का नहीं रह जाता। लेकिन जिस तरह से नवनियुक्त राज्यपाल ने बयान दिया है, वह सही नहीं है।

कांग्रेस प्रवक्ता राशिद अल्वी ने कहा कि कुरैशी ने अभी गवर्नर पद की शपथ नहीं ली है। उनका नाम सिर्फ प्रस्तावित हुआ है। ऐसा कोई नियम नहीं है कि गवर्नर बनने से पहले कोई किसी पार्टी का नेता न हो। मुझे उम्मीद है कि जब वह शपथ ले लेंगे, तब वह गवर्नर के रूप में निष्पक्ष होकर अपनी भूमिका का निर्वाह करेंगे।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy