Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
वर्ना सिब्‍बल के घर पानी भरूंगा: अन्‍ना हजारे

अपने अनशन की बात से ही केंद्र सरकार की नींद उड़ा देने वाले अन्‍ना हजारे ने नई दिल्‍ली में शाम को एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि जनलोकपाल बिल से अगर भ्रष्‍टाचार कम नहीं हुआ तो वह कपिल सिब्‍बल के घर पर पानी भरने का तैयार हैं.सरकारी लोकपाल ड्राफ्ट के विरोध में रात 8 बजे से लेकर रात 9 बजे तक अन्‍ना ने देशवासियों से अपने-अपने घरों की बत्ती बुझाने का आह्वान किया है. अन्ना हजारे ने समर्थकों से अपील की है इस दौरान सिर्फ एक दीया या मोमबत्ती जलाकर रखें.

जनलोकपाल बिल के खिलाफ आमरण अनशन शुरू करने से एक दिन पहले अन्ना नई दिल्‍ली में संवाददाताओं को कहा कि सरकार सत्ता और पैसे के नशे में चूर है. उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्‍य सरकार गिराना नहीं बल्कि व्‍यवस्‍था को बदलना है.
उन्होंने कहा कि आज जब मैं राजघाट में चिंतन के‍ लिए गया था तब मेरे आखों में यह सोचकर आंसू आ गए थे कि क्‍या वाकई हम देशवासियों को आजादी मिल गई है? मेरे पास हजारों लोगों के पत्र हैं जिसमें उन्‍होंने मुझसे अपनी दिक्‍कतों के बारे में बताया है लेकिन अफसोस कि मैं उनके लिए कुछ नहीं कर सकता.
उन्होंने सवाल किया कि गांव वालों की जमीन उद्योगपतियों को क्यों सौंपी जा रही है? उन्होंने कहा कि किसान आज पानी मांगते हैं तो उनपर गोलियां चलाई जाती हैं. अन्ना ने कहा कि आज हर चीज के लिए गांवों को शहरों के पीछे भागना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि सरकार गरीबों की नहीं सिर्फ उद्योगपतियों की सुनती है.

 


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy