Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
भारत में हो सकता है भुखमरी का संकट

एक नई अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट में कहा गया है कि आने वाले दिनों में भारत, ब्राज़ील, पश्चिमी अफ्ऱीका और मैक्सिको में लोगों के सामने भुखमरी का ख़तरा हो सकता है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि इन देशों को आने वाले दिनों में कृषि के एकदम नए तरीक़े अपनाने की ज़रुरत हो सकती है. ये रिपोर्ट जलवायु परिवर्तन की वजह से पैदा होने वाले खाद्यान्न संकट पर तैयार की गई है. वैश्विक कृषि अनुसंधान संस्थान (सीजीआईएआर) के वैज्ञानिकों को कहा गया था कि वे ऐसे इलाक़ों की पहचान करें जहाँ जलवायु परिवर्तन का खाद्यान्न उत्पादन पर सबसे अधिक असर पडऩे की आशंका है.

संकट का दायरा इसके लिए मौजूदा खाद्यान्न उत्पादन और समस्या से निपटने की क्षमता का अध्ययन किया गया और ये आकलन किया गया कि जलवायु परिवर्तन की स्थिति में इसमें कैसा असर पड़ सकता है. वैज्ञानिकों ने आने वाले दिनों में संभावित खाद्यान्न संकट के लिए जिन स्थानों की पहचान की है, उससे बहुत से लोगों को ज़्यादा आश्चर्य नहीं हुआ है. उदाहरण के तौर पर इसमें पश्चिमी अफ्रीका और भारत है जहाँ किसान पहले से ही संघर्ष कर रहे हैं. अगले बीस साल में खाद्यान्न की क़ीमतें दोगुनी होने की चेतावनी पहले ही दी जा चुकी है इस शोध में ये भी कहा गया है कि जिन स्थानों पर खाद्यान्न उत्पादन स्थिर बना हुआ है वे आने वाले दिनों में संकट के दायरे में आ सकते हैं. वैज्ञानिकों का कहना है कि ऐसे देशों के दायरे में लातिनी अमरीकी देश आते हैं जो अपने मूल खाद्यान्न के रूप में बीन्स पैदा करते हैं लेकिन जब जलवायु परिवर्तन की वजह से तापमान बढ़ेगा तो बीन्स की पैदावार को ख़तरा पैदा हो जाएगा. अपने अध्ययन में वैज्ञानिकों ने ये भी कहा है कि कुछ इलाक़े जलवायु परिवर्तन के प्रति ज़्यादा संवेदनशील नहीं हैं क्योंकि वे कृषि और पशुपालन के लिए ज़्यादा ज़मीन का उपयोग नहीं करते. लेकिन अगर वे भविष्य में इस ओर जाने का फ़ैसला करते हैं तो उनके लिए भी संकट बढ़ सकता है. उनका कहना है कि ये उप-सहारीय अफ्ऱीका में के लिए परेशानी का सबब हो सकता है जहाँ तेज़ी से कृषि उत्पादन को बढ़ाने के प्रयास किए गए हैं. इस शोध से जुड़े वैज्ञानिकों ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि इन समस्याओं से निपटने के उपाय तलाश करने के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रयासों को तेज़ किया जाना चाहिए. इसी हफ़्ते के शुरु में सहायता एजेंसी ऑक्सफ़ैम ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि यदि पर्याप्त उपाय नहीं किए गए तो खाद्यान्न की क़ीमतें अगले बीस वर्षों में दो गुनी हो जाएँगीं और इसकी आधी वजह जलवायु परिवर्तन होगी.

 


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy