Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
महंगाई ग़ायब नहीं होगी: प्रणब

मुखर्जी के अनुसार बजे दरों में सख्ती के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था अच्छा बढ़ेगी भारत के वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि ब्याज़ की दरें लगातार बढ़ाने और और अन्य प्रयासों बावजूद साल के अंत तक महंगाई की दर छह से सात फ़ीसदी रहने की उम्मीद है. बुधवार को दिल्ली में पत्रकारों से बातचीच में वित्त मंत्री ने कहा,। हम मुद्रास्फ़ीति से लड़ रहे हैं और रिज़र्व बैंक ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट बढ़ा कर एक कड़ा संकेत भी दिया है. लेकिन हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि बावजूद इसके साल के अंत तक महंगाई की दर छह से सात फ़ीसदी रह सकती है.।

 

भारतीय रिज़र्व बैंक ने मंगलवार को मुख्य ब्याज़ दरों में 50 बेसिस प्वाइंट बढ़ा कर उद्योगों, बाज़ारों और बैंकों से कज़ऱ् लेने वालों को हिला दिया था. प्रणब मुखर्जी ने कहा कि फऱवरी 2010 में खाद्य वस्तुओं में महंगाई की दर 22 प्रतिशत थी. वित्त मंत्री कहा, । हालाँकि अपने उच्चतम स्तर से खाने-पीने की चीज़ों में महंगाई की दर कम हुई है लेकिन आठ फ़ीसदी की दर बर्दाश्त से बाहर है.। मुखर्जी ने यह तो माना कि भारतीय अर्थव्यवस्था के सामने कई घरेलू और अंतरराष्ट्रीय चुनौतियाँ हैं, लेकिन उनके अनुसार निराशा का कोई कारण नहीं है. सकारात्मक संकेत -प्रणब मुखर्ज़ी इस बात के संकेत हैं कि 30 जून को खत्म होने वाली तिमाही में कॉर्पोरेट जगत में नौकरियां बढ़ रहीं हैं. सूचना प्रौद्योगिकी, उपभोक्ता उत्पाद की चीज़ें और स्वास्थ्य सेवा का क्षेत्र सबसे बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं वित्त मंत्री ने कहा कि नेशनल सैम्पल सर्वे ऑर्गेनाइज़ेशन के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2009-2010 में ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू उपभोक्ताओं की ओर से किया जाने वाला ख़र्च बढ़ा है. इससे साबित होता है कि समृद्धि और आर्थिक विकास का फ़ायदा आम आदमी तक पहुँच रहा है.

 

मुखर्ज़ी ने एक दूसरे सकारत्मक संकेत की बात करते हुए कहा, इस बात के संकेत हैं कि 30 जून को ख़त्म होने वाली तिमाही में कॉर्पोरेट जगत में नौकरियां बढ़ रहीं हैं. सूचना प्रौद्योगिकी, उपभोक्ता उत्पाद की चीज़ें और स्वास्थ्य सेवा का क्षेत्र सबसे बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं. वित्त मंत्री ने आशा जताई की जल्द ही भारतीय अर्थव्यवस्था दो साल पहले आई वैश्विक आर्थिक मंदी के पहले सी विकास की दर को पा लेगी. प्रणब मुखर्जी ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2008-09 में विकास दर 6 .6 प्रतिशत की दर रही. साल 2009-10 में यह आठ फ़ीसदी सालाना रही. पिछले साल 2010 -11 में यह 8.5 प्रतिशत रही. उम्मीद है कि इस साल विकास के उस दर को छू लेंगे जो वैश्विक मंदी के पहले थी.


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy