Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
छत्तीसगढ़: जवानों पर गंभीर आरोप

छत्तीसगढ़ के सबसे संवेदनशील माने जाने वाले दंतेवाड़ा जिले में पिछले 14 मार्च को अर्धसैनिक बलों के जवानों द्वारा कथित रूप से आदिवासियों के घरों को जलाए जाने और कुछ महिलाओं से दुव्र्यवहार करने के आरोपों की जांच शुरू हो गई है. सुरक्षाबलों पर आरोप है कि उन्होंने पांच ग्रामीणों को नक्सली बताते हुए "ठंडे दिमाग" से मार गिराया है, लगभग तीन सौ झोपडिय़ों में आग लगाई और तीन महिलाओं के साथ दुव्र्यवहार किया है. ये घटना दंतेवाड़ा के उस चिंतलनार इलाके की है जहाँ पिछले साल छह अप्रैल को माओवादियों ने घात लगाकर केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल के 76 जवानों को मार गिराया था.

बुधवार को ये मामला छत्तीसगढ़ विधानसभा में उठा. कांग्रेस नेता और राज्य के पूर्व गृहमंत्री नंदकुमार पटेल ने सदन में ध्यानार्कषण प्रस्ताव पेश किया. विधानसभा अध्यक्ष धर्मलाल कौशिक ने आश्वासन दिया है कि वे सरकार से इस विषय पर जवाब मांगेंगे और विधानसभा में अलग से चर्चा भी होगी. घटना हमें भी खबरें मिलीं हैं कि कुछ आदिवासियों के घरों में आग लगा दी गई है. अब ये आग किसने लगाई है इसका पता नहीं चला है. आग सुरक्षाबलों के जवानों ने लगाई या माओवादियों नें यह स्पष्ट नहीं है. अभी तक किसी गांव वाले नें आगे आकर इसके बारे में कोई लिखित शिकायत नहीं की है आर. प्रसन्ना, दंतेवाड़ा के कलेक्टर चिंतलनार के पुलिस कैंप के बीस किलोमीटर की परिधि में घने जंगलों की श्रंखला के बीच कई आदिवासी गांव हैं और 14 मार्च की सुबह अचानक नाकेबंदी करते हुए अद्र्ध सैनिक बलों के जवानों नें इस पूरे इलाके को घेर लिया. पुलिस का दावा था कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि मोरापल्ली के इलाके में बड़े माओवादी कमांडरों का जमावड़ा है और इस इलाके में नक्सलियों की हथियार बनाने की मशीन भी लगी हुई है. मगर यहाँ पुलिस को कुछ नहीं मिला. खबरें हैं की सुरक्षा बलों की टुकड़ी नें लौटते वक़्त पास के ही तिमापुरम में पड़ाव डाला जहाँ उनकी माओवादियों के साथ मुठभेड़ हुई. इस मुठभेड़ में तीन जवान मारे गए थे जबकि 9 जवान घायल हुए थे.

 

कहा जा रहा है कि उसके बाद जो कुछ हुआ उसने पुलिस और अर्धसैनिक बलों को कटघरे में खड़ा कर दिया है. सुरक्षाबलों पर आरोप है कि बौखलाहट में उन्होंने तीन गांव में जमकर तांडव मचाया. कहा जा रहा है कि पटेलपाड़ा गाँव में जब सुरक्षा बलों नें धावा बोला तो गाँव का ही एक माडवी चूला पेड़ पर चढ़ कर इमली तोड़ रहा था. आरोप है कि उसको वही गोली मार दी गई. जांच के आदेश गांव वालों का कहना है कि उनके घरों में सुरक्षाबलों ने आग लगाई दंतेवाड़ा के कलेक्टर आर प्रसन्ना नें बीबीसी से बात करते हुए कहा, "हमें भी खबरें मिलीं हैं कि कुछ आदिवासियों के घरों में आग लगा दी गई है. अब ये आग किसने लगाई है इसका पता नहीं चला है. आग सुरक्षाबलों के जवानों ने लगाई या माओवादियों नें यह स्पष्ट नहीं है."

 

प्रसन्ना कहते हैं कि कि गांववाले आरोप लगा रहे हैं कि तीन महिलाओं के साथ सुरक्षाबलों के जवानों नें दुव्र्यवहार किया है और कुछ ग्रामीणों को गोली भी मारी है. प्रसन्ना ने बीबीसी को बताया, "अभी तक किसी गांव वाले नें आगे आकर इसके बारे में कोई लिखित शिकायत नहीं की है." दंतेवाड़ा के कलेक्टर ने मामले की जांच करने के लिए तहसीलदार के नेतृत्व में एक समिति का गठन किया है. उनका कहना है इस समिति में एक महिला अधिकारी को भी रखा गया है. फि़लहाल दंतेवाड़ा ज़िला प्रशासन नें मुआवज़े की घोषणा भी की है. प्रसन्ना का कहना है जिनके घर जले हैं उन्हें पचास हज़ार रुपए बतौर मुआवजा मिलेगा मगर जांच पूरी होने के बाद. पहली घटना नहीं पिछले साल नारायणपुर में भी घर जलाए गए थे. तब भी सुरक्षाबलों पर ही आरोप लगा था. ये पहला मौका नहीं है जब सुरक्षाबलों पर इस तरह का आरोप लगा हो. बस्तर के नारायणपुर, जगदलपुर, बीजापुर और कांकेर जिलों में पिछले दो सालों में ऐसी कई वारदातें हुईं

 

हैं जिसने सुरक्षा बलों को कटघरे में खड़ा कर दिया है. पिछले साल नारायणपुर के ओंग्नार में भी सुरक्षा बलों पर इसी तरह के आरोप लगे थे. वहां गांव की अपनी झोपडी में खाना पका रही एक लड़की को गोली मारने का आरोप भी पुलिस पर लगा है. हालांकि सभी मामले प्रकाश में आए और प्रशासन ने जांच के आश्वासन भी दिए मगर दोषियों के ख़िलाफ़ कभी कोई कार्रवाई नहीं होने से जनता और सरकार के बीच अविश्वास की खाई और बढ़ गयी है. सामजिक कार्यकर्ता हिमांशु कुमार के अनुसार 18 मार्च वर्ष 2008 में माथवाड़ा के सलवा जुडूम के कैंप के पास तीन आदिवासियों की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी. पुलिस का कहना था कि इन हत्याओं को माओवादियों ने अंजाम दिया था. मगर अब उच्च न्यायलय के आदेश के बाद इन हत्याओं के सिलसिले में तीन पुलिसवालों को गिरफ्तार किया गया है.


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy