Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
ओरछा- राजा राम की नगरी

संपूर्ण भारत में सिर्फ एकमात्र स्थान ऐसा है जहां भगवान राम राजा के रूप विराजमान है वह है म प्र स्थित ओरछा । भगवान राम के राजा के रूप में विराजमान होने के साथ एक अनोखी जनश्र्रुति जुड़ी हुई है । कहते है कि धर्म परायण बुंदेला राजा मघुकर शाह स्वप्र में भगवान राम के दर्शन पाकर और उसके निर्देश पर अयोध्या से राम की प्रतिमा ओरछा लाए थे तब राजा को भगवान ने निर्देश दिया था कि वे जिस जगह सबसे पहले विराजमान हो जाऐंगे फिर वहां से हटाए नहीं जाऐंगे । लेकिन मंदिर में प्रतिष्ठा के पहले इसे महल मेें एक स्थान पर रख दिया गया और प्राण प्रतिष्ठा के समय मूर्ति को वहॉ से हटाना असंभव हो गया तब से राम राजा के रूप में उसी महल में विराजमान है । स्थापत्य की द़ष्टि से गगनचुम्बी कलश और प्रासाद वास्तुकला के कारण यह मंदिर नि: सन्देह समूचे भारत में अनूठा है यह देश का अनोखा ऐसा मंदिर है जहॉ राम की पूजा राजा की तरह होती है । इसके साथ ही ओरछा नगरी का स्थान अनूठा हो गया इस नगरी में हमारी मध्ययुगीन विरासत पत्थरों मेें मुखरित होती है । कहते है कि समय हमेशा गतिमान होता है लेकिन इस मध्ययुगीन नगर में पाषाण के धनीभूत सौन्दर्य को देखकर लगता है कि समय यहॉं विश्राम कर रहा है । लगता है समूचा सौन्दर्य युगों युगों के लिए समय की शिला पर अंकित हो गया है जैसे आनन्द की परमअनुभूति पर जाकर लगता है मानों समय ठहरे गया हो । ़ 16 वीं सदी में बुंदेला राजपूत रूद्र प्रताप ने बेतवा के किनारे स्थित इस भूमि को अपनी राजधानी बनाया परवतों राजा वीर सिंह जूदेव क े समय ओरछा नगरी ने अपना वैभव प्राप्त किया । 16 वीं व 17 वीं सदी में बनवाए गए मंदिर और प्रासाद आज भी अपनी पुरातन गरिमा बनाए हुए हैं। ओरछा के स्थापत्य बाहर से तो भव्य है ही उनका अंतरंग भी बुंदेली कला से सुसज्जित है । लक्ष्मी नारायण मंदिर में अंकित मर्मस्पर्शी भित्ति चित्रों में लोक और परलोक की गाथाओं वे अशिभक्ति पाई है वे आज भी मंदिर क ेअंतरंग को जीवन्त बनाए हुए है । लक्ष्मी नारायण मंदिर की वास्तुसंकल्पना अत्यंत रोचक है जिसमें मंदिर अैर दुर्गाशैली का अद्भुत समन्वय है जिसमें बने भित्ति चित्रों में जीवन स्पंदित होता है साथ ही सर्वधर्र्म संभाव और आध्यात्मिक अनुभूतियों को अभिव्यक्ति मिलती है । एक और मंदिर चतुर्भुज मंदिर जो अयोध्या से लाए गए राम की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा के लिए बनवाया गया था पर जनश्रुति के अनुसार प्रतिष्ठा राम रानी लॉड कुंवर के महल में स्थापित हो गए थे । इस मंदिर पर वाह्य अलंकरण के रूप में धार्मिक महत्व क े कमल प्रतीक और अन्य मंागलिग चिन्ह सुरूचि पूर्वक अंकित किए गए है । अंातरिक भाग का मंदिर गर्भ बिल्कुल सात्विक है। जिसकी दीवारें गहन पवित्रता से भरी हुई है । मंदिरों के साथ ही यहाँ राज प्रसादों की भी एक श्रृंखला है जिसमें जहांगीर महल, राजामहल, राय प्रवीण महल ,सुन्दर महल शामिल है । ओरछा ने भारतीय स्वंतत्रता संग्राम के महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद को अज्ञातबास में अपनी शरण स्थली देकर भूमिका का निर्वहन किया है । म प्र सरकार ने एक स्मारक निर्मित कर उस शहीद को नमन किया है । अध्यात्म और स्थापत्य का अनूठा संगम किसी भी आमजन के लिए उत्सुकता पैदा कर सकता है फिर पर्यटन के शैकीन जनों के लिए तो यह अद्भुत है ही । यहाँ वायु , रेल और सड़क मार्ग से निकट ही सुविधाऐं उपलब्ध है । म प्र पयर्टन विकास निगम ने भी इस स्थान के महत्व को देखते हुए ठहनेे के उचित प्रबन्ध किए है जिसमें होटल शीश महल और बेतवा रिट्रीट में बहुत ही उपयुक्त सुविधाऐं उपलब्ध हैे । आरक्षण के लिए222.द्वश्चह्लशह्वह्म्द्बह्यद्व.ष्शद्व पर लॉग ऑन कर सकते है । साथ ही झांसी रेलवे स्ळेशन पर फोन नं 0512 2442622 पर भी संपर्क कर सकते है ।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy