Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
पीएफ के पैसों से जजों के लिए खरीदे गए मोबाईल लैपटाप और फर्नीचर

भविष्य निधि घोटाले की जांच कर रही सीबीआई ने इस सिलसिले में करीब तीन दर्जन जजों से पूछताछ की है । इनमें एक जज सुप्रीम कोर्ट का है । उत्तराखंड हाईकोर्ट के एक और इलाहाबाद हाईकोर्ट के तीन जजों सहित हाईकोर्ट के दस जजों से पूछताछ की गई है । दो दर्जन जिला जजों से भी तहकीकात की गई है । सीबीआई ने इन जजों से घोटाले के मुख्य आरोपी आशुतोष अस्थाना से संबंधो के बारे में पूछा है । अस्थाना ने उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद नजारत में हुए इस घोटाले के सिलसिले में 36 जजों के नाम लिए है । उसका दावा है कि घोटाले के पैसों से इन जजों को खूब फायदा हुआ है । घोटाले की जंाच के संबंध में सीबीआई ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में दूसरी स्थिति रिपोर्ट पेश की । इसमें पूछताछ का पूरा ब्यौरा दिया गया है । साथ ही सीबीआईने 23 करोड रूपए के इस घोटाले की जंाच में अब तक हुई प्रगति का लेखाजोखा भी रखा है । रिपोर्ट के मुताबिक कुछ जजों ने गडबड किया है । इसमें और जांच की जरूरत बताई गई है । पहली स्थिति रिपोर्ट में सीबीआई ने बताया था कि गाजियाबाद अदालत में काम करने वाले लोगो के पीएफ का पैसा जजों के लिए आरामतलबी के सामान खरीदने पर खर्च किया गया । तृतीय और चतुर्थ वर्ग के कर्मचारियों के पीएफ का पैसा फर्नीचर, क्राकरी, मोबाईल, गैजेट, लैपटाप रेल टिकट, टैक्सी किराया आदि लग्जरीआइटम पर खर्च होने की बात कही गई थी । रिपोर्ट में तो यहां तक कहा गया कि जजों ने पारिवारिक समारोहो और शादी ब्याह के मौके पर फोटोग्राफी और में यह पैसा खर्च किया । सीबीआई कीस्थिति रिपोर्ट के मुताबिक 500 फोटो के नेगेटिव एक सीडी, दो मिनी वीडियो कैसेट जजों क े निजी समारोहो से संबंधित है । साथ कई दूसरी खरीदारी के बिल और संबंधित दस्तावेज भी मिले है । सूत्रों का कहना है कि अस्थाना ने सीबीआई को बताया है कि उसने न्यायपालिका से जुडे लोगो को 60-70 मोबाईल फोन बांटे है । अस्थाना टे्रजरी अफसर था ।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy