Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
राफेल डील से जुड़ी जानकारियां,सुप्रीम कोर्ट ने मांगी

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को केंद्र सरकार के विरोध को दरकिनार करते हुए, सरकार को राफेल डील के बारे में जानकारी मुहैया कराने का निर्देश दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा है कि वह उन कदमों के बारे में बताए जिसके तहत फ्रांस से फाइटर जेट राफेल खरीदने की प्रक्रिया का फैसला किया गया। आपको बता दें कि पिछले कुछ माह से इस जेट को लेकर काफी हंगामा मचा हुआ है और विपक्ष लगातार केंद्र सरकार पर घोटाले का आरोप लगा रहा है।

मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई की बेंच ने यह साफ कर दिया है कि केंद्र सरकार को जेट की कीमतों से जुड़े विषय पर जवाब नहीं देने की जरूरत नहीं है और न ही एयरक्राफ्ट की अनुकुलता को लेकर कोई सवाल किया जाएगा। बेंच ने अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल को निर्देश दिया है कि 29 अक्टूबर तक उसे जेट खरीदने के फैसले की प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी जाए। इसके बाद कोर्ट उन तरीकों का अध्ययन करेगी जिसके तहत फ्रांस के साथ सौदा हुआ और एक भारतीय कंपनी को ऑफसेट पार्टनर के तौर पर चुना गया

कोर्ट ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि इस केस में कोई भी औपचारिक नोटिस जारी नहीं किया गया है और साथ ही जनहित याचिका में राफेल डील के खिलाफ लगाए गए आरोपों का सरकार की ओर से दी जाने वाली जानकारियों से कोई लेना-देना है। सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल से अनुरोध किया कि इन याचिकाओं को खारिज कर दिया जाए क्‍योंकि यह राजनीतिक भावना से प्रेरित हैं और इनसे राष्‍ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी हैं। सुप्रीम कोर्ट के वकील विनीत धांडा और एमएल शर्मा की ओर से राफेल डीलन पर दो जनहित याचिकाएं दायर की गई थीं। इन याचिकाओं में सौदे की जांच की मांग की गई थी।


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy