Bookmark and Share डिजिटल भुगतान से वैश्यावृत्ति के व्यापार में कमी के आंकड़ों से बौखलाये ,मोदी के दूत रविशंकर प्रसाद                मंत्री है या भ्रष्टाचारियों के दलाल                 मोदी के राज में पत्रकारों की आवाज की जा रही बंद, फिर भी चाटुकार बजा रहे बीन                एस्सार समूह ने केंद्रीय मंत्रियों और अंबानी बंधुओं के फोन टैप कराए                1500 करोड़ का घोटाला, राजभवन ने नहीं की कार्यवाही                फर्जी डाक्टरों का सरगना डॉ.अभिमन्यु सिंह                मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं भ्रष्टाचारियों के सरगना कहिए !                पद़माकर त्रिपाठी को डॉ. नही सफेद एप्रिन का गिद्ध कहिए !                    
सरकार किसानों से किया वादा नहीं कर रहीं है पूरा- बैरागी किसानों को दस फसलों पर प्रतिवर्ष हजारों रूपए का घाटा

सीहोर। भाजपा की केंद्र सरकार ने वर्ष १४ मेें  चुनाव अभियान के दौरान किसानों से किया वादा अबतक पूरा नहीं किया है। प्रधानमंत्री ने केंद्र में सरकार बनने पर किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य स्वामीनाथन आयोग केि मुताबिक लागत का ढेड़ गुना मूल्य किसानों को देने का वादा किया था। भाजपा ने मामूली वृद्धी कर किसानों को केवल रिझाने का कार्य किया है उक्त बात बुधवार को अखिल भारतीय किसान सभा के प्रांतीय महासचिव प्रहलाददास बैरागी ने किसानों को संबोधित करते हुए कहीं। 
केंद्र में सरकार बनने के बाद खाद, बीज, डीजल,कीटनाशक सहित कृषि यंत्रों की कीमत मेें काफी वृद्धि हुई। किसानों की मांग को सरकार ने सिरे से खारिज कर कोर्ट में कृषि लागत से ढेड गुना दाम बढ़ाने पर एतराज जताते हुए बाजार की स्थिति खराब होने का शपथ पत्र दिया। न्यूनतम समर्थन मूल्य तय करना कोई आमदनी नीति नहीं है। श्री बैरागी ने कहा की राई पर ६५०,ज्वार पर ५२०,अरहर पर १७९६,मूंग पर २२६६,उड़द पर १८८३,मूंगफली पर १३८९,सूरजमुखी पर १३६३,सोयबीन पर १०५९. धान पर ५९०, रूपए और बाजरा पर प्रति क्वंटल किसान को ३३ रूपए का नुकसान हो रहा है। जिस से किसान आर्थिक रूप से कमजोर होता जा रहा है। उन्होने सरकार से वादा पूरा करने और किसानों उनका हक देने की मांग किसानों के हित में की है।  


Email (With coma separated ) :
You can Advertisment here
संपर्क करें      मेम्बेर्स      आपके सुझाव      हमारे बारे मे     अन्य प्रकाशन
Copyright © 2009-14 Swarajya News, Bhopal. Service and Private Policy